top of page
Final_MobileWebpage.jpg
Home: Welcome
About Us
Final_Webpage.jpg

हिंगड़ परिवार का एक बहुत समृद्ध इतिहास है और इसकी विरासत को संरक्षित करना न केवल हमारे पूर्वजों के प्रति, बल्कि आने वाली पीढ़ियों के प्रति भी हमारा कर्तव्य है । इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए सबसे उपयुक्त विचार यह था कि इसे एक वेबसाइट के रूप में रखा जाए । यह सभी के लिए आसानी से उपलब्ध है और जब और अधिक योगदानकर्ताओं से अधिक डेटा एकत्र होगा तो इसे बिना किसी परेशानी के शामिल किया जा सकेगा। 

हिंगड़ परिवार की ज्ञात समयरेखा के अनुसार यह स्थापित किया गया है कि यह मूल रूप से घाणेराव और नाडोल के शहरो के वासी थे । हालांकि, रानी स्टेशन उनके इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । ऐसा इसलिए है क्योंकि व्यापार और आजीविका की तलाश में हिंगड़ परिवार के सदस्य रानी स्टेशन चले गए थे । आखिरकार रानी स्टेशन ही उनकी पहचान बन गई । रानी स्टेशन के एक क्षेत्र का नाम हिंगड़ मोहल्ला है और यह 8 लाख वर्ग फुट फैला है । हिंगड परिवार ने रानी मंडी (रानी स्टेशन के बाजार) में व्यापार स्थापित किया और रानी स्टेशन को विशिष्ठ बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । वे केवल व्यापर ही नहीं, परोपकारी कार्य भी करते थे । 

हिंगड़ परिवार श्री टीलोजी हिंगड़ के वंशज है । दुःख की बात है कि उनके और उनके वंशजों के नामो को छोड़कर, उनके व्यवसाय और सामान्य जीवन का काई अभिलेख नहीं है । हिंगड़ परिवार का निर्णायक अभिलेख श्री चंद्रभानजी हिंगड़ के समय से शुरू होता है । 

आज हिंगड़ परिवार के सदस्य कोलकत्ता, मुंबई, चेन्नई, विजयवाडा, पुणे, हुबली, संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान में मौजूद हैं और व्यापार से तरक्की हासिल कर रहे है । 

हिंगड़ परिवार की जड़ें चौहान वंश से हैं लेकिन इसके पूर्वजों के बारे मे विस्तार से बहुत कम जानकारी है । वंश वृक्ष की शुरुआत टीलोजी हिंगड़ से होती है लेकिन श्री चंद्रभानजी हिंगड़ के समय से ही तथ्यों को निश्चितता के साथ कहा जा सकता है । 

श्री चंद्रभानजी हिंगड़ और उनके पूर्ववर्ती घाणेराव और नाडोल के थे । उनके सबसे बड़े बेटे श्री लक्ष्मीचंदजी हिंगड़ और बाकी परिवार बाद में व्यापार और आजीविका की तलाश में रानी स्टेशन चले गए । रानी स्टेशन का हिंगड़ परिवार गोरवाड़ क्षेत्र में प्रसिद्ध था और जोधपुर और उदयपुर के राजा और घाणेराव के ठाकुरों और अन्य ठाकुरों के करीबी था । 

श्री लक्ष्मीचंदजी हिंगड को गोरवाड़ क्षेत्र का सरकार नामित किया गया था । जोधपुर वंश का राज्य बहुत बड़ा था और उसके अधिकार क्षेत्र में आने वाला क्षेत्र इतना बड़ा था कि राजा के लिए पूरे क्षेत्र को नियंत्रित करना और कर वसूल करना संभव नहीं था । इस समस्या के समाधान के रूप में जोधपुर के राजा ने राज्य को 23 क्षेत्रों में विभाजित किया । प्रत्येक क्षेत्र में उन्होंने एक ठाकुर/सरकार नियुक्त किया । इन ठाकुरों/सरकारों में करिश्माई व्यक्तित्व के वे धनी थे और अपने-अपने क्षेत्रों में शक्तीशाली एवं आदरणीय थे | उन्हें आज जनता की बुनियादी समस्याओं को हल करने, अपने क्षेत्र के विकास में योगदान देने और कर एकत्र करने का कार्य सौंपा गया था । 

History
Family tree

या बस इसे यहाँ से डाउनलोड करें

अपने कुशल शासन के परिणामस्वरूप, श्री लक्ष्मीचंदजी, स्थानीय जनता के बीच काफी लोकप्रिय थे । वह एक बहुत ही सक्षम व्यापारी भी थे । और उनके प्रयासों के कारण ही रानी स्टेशन में हिंगड़ परिवारों के 8 एचयूएफ व्यवसाय फले-फूले । गोरवाड क्षेत्र के व्यापारिक परिदृश्य में हिंगड़ परिवार के सम्बंधित कई लोकप्रिय कहानियां हैं। 

जोगमाया चामुंडाजी माता हिंगड़ परिवार की कुलदेवी है और यह मंदिर उन्हे सम्मानित करने के लिए परिवार द्वारा बनाया गया था । यह खूबसूरत मंदिर, जिसे प्यार से "चांमुडा माता का मंदिर" कहा जाता है, 150 साल पहले बनाया गया था । वर्तमान समय में भी, शुभ अवसरों और नई शुरुआत का जश्न मनाने और उसी के लिए माता का आशीर्वाद लेने के लिए, इस मंदिर में जाने की परंपरा है । 

रानी स्टेशन में हिंगड़ परिवार द्वारा एक अस्पताल बनाया गया था । अस्पताल और उसके आसपास की भूमि 25000 वर्ग फुट (2322 वर्ग मीटर) सरकार को दान कर दी गई थी । आज तक इसे राजकीय हिंगड़ सामुदायिक अस्पताल कहा जाता है । रानी स्टेशन के स्थानीय निवासियों ने अस्पताल की सुविधाओं बढ़ाने और नवीनीकरण में योगदान दिया । 

Contact Us

Get in Touch

हमें बढ़ने में मदद करें!

अगर आप हिंगारह परिवार से हैं तो इस फॉर्म को भरें  या आप इसके बारे में कुछ भी जानते हैं।

488-04.png
488-03.png

+91 773 805 6850            info@hingarh.com

bottom of page